ज्यादा मीठा खाने से बढता है कैंसर का खतरा

Spread Your News

नई दिल्ली: तमाम शोध खुलासा कर चुके हें कि अधिक शुगर का सेवन करने का मतलब है सेहत के लिए खतरनाक बीमारियों को न्यौता देना। अधिक मात्रा में चीनी युक्त खाद्य पदार्थ खाना कई बीमारियों के बढ़ते जोखिम से जुड़ा हुआ है, जिसमें हृदय रोग, दुनियाभर में मौत का नंबर एक कारण शामिल है। शोध बताते हैं कि उच्च चीनी आहार से मोटापा, सूजन और उच्च ट्राइग्लिसराइड, रक्त शर्करा और रक्तचाप का स्तर हो सकता है और ये सभी दिल की बीमारी के खतरे को बढ़ाने वाले फैक्टर हैं। 30000 से अधिक लोगों पर किए गए अध्ययन में पाया गया कि जो लोग अतिरिक्त चीनी की 17-21फीसदी कैलोरी का सेवन करते हैं, उनमें हृदय रोग से मौत का 38फीसदी अधिक खतरा होता है।

अत्यधिक मात्रा में चीनी खाने से कुछ प्रकार के कैंसर होने का खतरा बढ़ सकता है। चीनी से बने फूड और ड्रिंक्स सबसे पहले मोटापा को बढ़ाते हैं जो आपके कैंसर के जोखिम को काफी बढ़ा देता है। इसके अलावा, चीनी आपके शरीर की सूजन को बढ़ाती है और इंसुलिन प्रतिरोध का कारण भी बन सकती है, और इस तरह से ये दोनों कैंसर के खतरे को बढ़ाती हैं। 430,000 से अधिक लोगों के एक अध्ययन में पाया गया कि अतिरिक्त चीनी की खपत सकारात्मक रूप से एसोफैगल कैंसर, फुफ्फुस कैंसर और छोटी आंत के कैंसर के खतरो को बढ़ाती है।

पिछले 30 सालों में मधुमेह का विश्वव्यापी प्रसार दोगुने से अधिक हो गया है। हालांकि इसके कई कारण हैं, लेकिन अत्यधिक चीनी के सेवन और मधुमेह के जोखिम के बीच एक स्पष्ट संबंध है। मोटापा, जो अक्सर बहुत अधिक चीनी का सेवन करने के कारण होता है और वही डायबिटीज के लिए सबसे बड़ा फैक्टर माना जाता है। 175 से अधिक देशों के एक जनसंख्या शोध में पाया गया कि प्रतिदिन खपत होने वाली चीनी की प्रत्येक 150 कैलोरी या सोडा के लगभग एक कैन के लिए मधुमेह विकसित होने का जोखिम 1.1फीसदी बढ़ गया। झुर्रियां उम्र बढ़ने का एक प्राकृतिक संकेत हैं और कभी-कभी ये उम्र से पहले भी दिखने लगती हैं। इसकी जिम्मेदार हम खुद ही हैं, क्योंकि झुर्रियों का कम उम्र में दिखने का एक कारण हमारा खराब आहार भी हो सकता है।

रिफाइंड कार्ब्स और अधिक चीनी वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करने से एजीई का उत्पादन होता है, जिससे आपकी त्वचा समय से पहले ही मुरझाने लगती है। एजीई कोलेजन और इलास्टिन को नुकसान पहुंचाते हैं, जो प्रोटीन होते हैं और इनकी मदद से हमारी स्किन टाइट रहती है। पर जब कोलेजन और इलास्टिन क्षतिग्रस्त हो जाते हैं, तो त्वचा चमक खो देती और शिथिल हो जाती है। क अध्ययन में पाया गया है कि जिन महिलाओं ने अतिरिक्त शर्करा सहित अधिक कार्ब्स का सेवन किया, उनमें उच्च प्रोटीन, कम कार्ब आहार (32) वाली महिलाओं की तुलना में अधिक झुर्रियां दिखीं। चीनी और प्रोसेस्ड फूड का अधिक सेवन करने से डिप्रेशन भी बढ़ सकता है। 8,000 लोगों पर किए गए एक अध्ययन से पता चला है कि जिन पुरुषों ने प्रतिदिन 67 ग्राम या अधिक चीनी का सेवन किया था, वे उन पुरुषों की तुलना में 23फीसदी ज्यादा डिप्रेशन की चपेट में आए थे जिन्होंने प्रतिदिन 40 ग्राम से कम शुगर कंज्यूम की।

69000 से अधिक महिलाओं में किए गए एक अन्य अध्ययन से पता चला है कि जो लोग चीनी का सबसे अधिक सेवन करते हैं, उनमें अवसाद का खतरा काफी अधिक था। फ्रुक्टोज के अधिक मात्रा में लगातार सेवन करने फैटी लिवर का जोखिम बढ़ सकता है। बता दें कि पिछले माह ही IIT मंडी के शोधकर्ताओं की एक टीम ने शोध किया था। शोध में उन्होंने अत्यधिक चीनी की खपत और फैटी लिवर के विकास के बीच अंतर्निहित जैव रासायनिक संबंधों की पहचान की है। इसे मेडिकल के क्षेत्र में गैर-अल्कोहल फैटी लिवर रोग के रूप में जाना जाता है।


Spread Your News
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.