जल योग के फायदे ही फायदे, जानिए कैसे और क्यों है हेल्थी लाइफ के लिए जरूरी

Spread Your News

पानी में योगासन की बात शायद आपके गले न उतरे। लेकिन यह सच है। एक्वा योगा या जल योग पर की साधना स्तब्ध करने लायक है। जल पर सबसे मुश्किल आसन को नारायण मुद्रा या विष्णु शयन आसन का नाम दिया है। इसमें एक कोहनी को सिर के नीचे रखकर पानी पर लेटा जाता है। शव आसन की मुद्रा को जलनिद्रा आसन कहते हैं।

कैसे संभव है पानी पर योग?

जल पद्मासन मुद्रा में ध्यान समर्पण

पानी पर योग का करिश्मा संभव होने के कारणों के बारे में ध्यान समर्पण अमित योगाचार्य कहते हैं कि पानी में जाने से पहले सांसों पर प्राणायाम के माध्यम से नियंत्रण जरूरी है। आवश्यकतानुसार अलग-अलग नथुनों से सांस लेकर शरीर का संतुलन बनाए रखा जाता है। इस हालत में शरीर का घनत्व और पानी का घनत्व समान हो जाता है। इसके चलते लंबे अभ्यास के बाद पानी के ऊपर बिना हाथ-पैर चलाए संतुलन बनाना संभव होता है।

पुरुषों ने नहीं रखा खाने का ध्यान, तो होगी स्पर्म काउंट की घटने की समस्या

बहुत लाभकारी है एक्वा योग

ध्यान समर्पण का कहना है कि एक्वा योगा बहुत लाभकारी है। इसके माध्यम से हम अपने आपको पूर्णत: स्वस्थ रख सकते हैं। यह तैराकी, सूक्ष्म प्राणायाम, योग आसन व गहन ध्यान का अनूठा संगम है। इसमें हम अपने शरीर, दिमाग और आत्मा को बहुत ऊंचे स्तर तक ले जाने में सफल होते हैं। एक लाभ यह भी है कि पानी में योग करते समय झटका लगने जैसे नुकसान होने की संभावना नहीं रहती।

इस बार उर्फी को ये ड्रेस पड़ी भारी, ऊपर से इस शख्स ने ये कह कर दिलवा दिया गुस्सा, देखें वीडियो

NOTE: दिन की बेहतर शुरूआत के लिए जरूरी है कि पिछली रोज की टेंशन को भूल जाएं। तभी आप नई चुनौतियों और परफॉर्मेंस के लिए तैयार हो पाएंगे। सभी प्रकार के आसन का अभ्यास और प्रदर्शन योगा शिक्षक के सामने करें। ज्यादा जानकारी के लिए ध्यान समर्पण +919999872980 पर संपर्क करें। आप इंस्टाग्राम पर https://www.instagram.com/01yogatravel/भी फॉलो कर सकते हैं।


Spread Your News
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *