KISAN NEWS: आपके खेत में लगी हर फसल का ब्यौरा रखेगी सरकार, युद्ध स्तर पर काम जारी

Spread Your News


मेरी फसल मेरा ब्यौरा (Meri Fasal Mera Byora) पोर्टल पर प्राथमिकता आधार पर राज्य की शत प्रतिशत जमीन का रजिस्ट्रेशन करवाने के आदेश हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने अधिकारियों को दिए हैं। वहीं आदेश में जिला उपायुक्त को यह भी सुनिश्चित करने को कहा गया है कि प्रत्येक एकड़ भूमि की मैपिंग (Land mapping) करवाई जाए और इस कार्य में लगे कर्मचारियों का प्रशिक्षण जल्द से जल्द हो। उन्होंने जीरो एरर एप्रोच के साथ खेतों का भौतिक सत्यापन भी करने के निर्देश दिए हैं.

मेरी फसल मेरा ब्योरा पोर्टल पर खेती योग्य भूमि के साथ-साथ खाली जमीन का भी रजिस्ट्रेशन होगा। ताकि सरकार को पता रहे कि कौन सी फसल कितने क्षेत्र में बोई गई है और कितने खाली पड़े हैं। इस तरह के आंकड़ों के आधार पर ही किसान कृषि विभाग और बागवानी की योजनाओं का लाभ सरलता से उठा सकेंगे। हर गांव में खेती के पूरे ब्यौरे का अलग डैशबोर्ड बनाने को भी कहा गया है। पोर्टल पर दर्ज की गई जमीन का दैनिक डाटा गांव के लोगों के साथ साझा करने को भी कहा गया है.

जमीन की मैपिंग कार्य में 6205 कर्मचारी लगाए गए

कृषि विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. सुमिता मिश्रा ने कहा कि जमीन की मैपिंग के काम के लिए विभिन्न विभागों के 6205 अधिकारियों व कर्मचारियों को लगाया गया है। कृषि (Agriculture), पंचायत, बागवानी, सिंचाई और राज्य कृषि विपणन बोर्ड सहित विभिन्न विभागों के कर्मचारी प्रदेश की एक-एक एकड़ भूमि की मैपिंग करेंगे, ताकि राज्य की शत प्रतिशत भूमि के पंजीकरण लक्ष्य को हासिल किया जा सके।

DSR तकनीक से बुवाई फायदेमंद

मिश्रा ने कहा कि किसानों (Farmers) ने फसल विविधीकरण के तहत दलहन, तिलहन और चारे की बुवाई पर अधिक ध्यान केंद्रित किया है। वहीं जल संरक्षण के लिए एक नई योजना, डीएसआर (Direct Seeder Rice) शुरू की गई है, जिसके तहत किसान बढ़-चढ़कर बुवाई कर रहे हैं। यह धान की खेती करने की एक कम खर्चीली और कम पानी वाली विधि है.

87,000 एकड़ पर वैकल्पिक फसल

अधिकारियों को बताया कि मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत इस वर्ष 2 लाख एकड़ जमीन को धान मुक्त करने का लक्ष्य तय किया गया है। अब तक इसमें से लगभग 87,000 एकड़ भूमि पर धान के स्थान पर अन्य वैकल्पिक फसलों की बुवाई की गई है। ऐसे किसानों को 7000 रुपये प्रति एकड़ की दर से प्रोत्साहन रकम मिलेगी।

बाजरा की जगह दूसरी फसल लगाने पर मिलेंगे 4000 रुपये

हरियाणा में किसानों को बाजरा के स्थान पर अन्य वैकल्पिक फसलों की बुवाई के लिए एक विशेष प्रोत्साहन योजना शुरू की गई है। इसके तहत अन्य फसलें उगाने के लिए 4000 रुपये प्रति एकड़ की प्रोत्साहन रकम मिलेगी।


Spread Your News
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.