Pulwama Attack: ये दिन हर हिंदुस्तानी की छाती पर गहरा घाव है, शहीदों को देश कर रहा है नमन

Spread Your News

NEWSAGENDA24, NEWS DESK

Pulwama Attack यानि कि 14 फरवरी 2019 का ये दिन हर हिंदुस्तानी की छाती में वो घाव है, जिसे शायद ही कभी भरा जा सकता है। इस तारीख को हर हिंदुस्तानी हमेशा याद रखेगा, क्योंकि ये तारीख ऐसी है जो भुलाए भी नहीं भूल सकते। ये वही दिन था, जब जम्मू-श्रीनगर हाईवे (jammu-srinagar highway) पर आगे बढ़ रहे केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) के जवानों के काफिले पर आत्मघाती आतंकी हमला हुआ और भारत के 40 वीर जवान शहीद हो गए। पुलवामा हमले के बाद से ही पाकिस्तान के खिलाफ देशभर में गुस्से का माहौल था। पुलवामा (pulwama) जिले के अवंतीपुरा के पास लेथपोरा इलाके में हुए हमले की जिम्मेदारी पाकिस्तान के आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी, जिसके बाद भारत ने सिर्फ 12 दिनों में ही पाकिस्तान से बदला ले लिया। भारत ने 26 फरवरी को बालाकोट एयरस्ट्राइक (air strike) करके जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों को ढेर कर दिया था।

26 फरवरी, 2019 को रात के तकरीबन तीन बजे भारतीय वायुसेना के 12 मिराज 2000 फाइटर जेट्स ने लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) को पार करके बालाकोट स्थित जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों को धवस्त कर दिया था। सूत्रों के मुताबिक इस हमले में पाकिस्तान की ओर से पोषित 300 आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया गया। एयरस्ट्राइक (air strike) में तकरीबन हजार किलो बम आतंकी ठिकानों पर बरसाए गए थे।

देश का सबसे बड़ा BANKING FRAUD, बैकफुट पर आई मोदी सरकार, आपको भी लग गया है बड़ा चूना

पुलवामा (pulwama) में नेशनल हाईवे पर जा रहे केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) के जवानों के काफिले पर आतंकवादियों ने छिपकर निशाना बनाया। 14 फरवरी, 2019 की दोपहर के वक्त 300 किलो विस्फोटक से लदी गाड़ी ने सीआरपीएफ वाहन को टक्कर मारकर उड़ा दिया था। आतंकी हमले के बाद जवानों को नजदीक के आर्मी हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया, लेकिन मौके पर ही बड़ी संख्या में जवानों ने दम तोड़ दिया। ज्यादातर देशों ने भारत के वीर जवानों पर हुए आतंकवादी हमले की निंदा की। इस घटना को अंजाम देने वाले हमलावर का नाम आदिल अहमद डार था। इसके अलावा, हमले में सज्जाद भट्ट, मुदसिर अहमद खान आदि जैसे आतंकियों के भी हाथ थे, जिसे बाद में सेना ने मौत के घाट उतार दिया। मामले की जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने की, जिसमें उसने साढ़े 13 हजार से अधिक पन्नों की चार्जशीट दाखिल की।

भारत के वीर सपूतों को खोने के बाद लगभग हर कोई जल्द-से-जल्द हमले के पीछे रहने वाले आतंकियों से बदला लेना चाहता था। सीआरपीएफ (crpf) ने भी कहा था कि हमले के जिम्मेदारों को वो ना तो माफ करेगा और ना ही भूलेगा। आतंकवादी हमले के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (prime minister narendra modi) ने शहीद जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की। शहीद जवानों के पार्थिव शरीर को वायुसेना के विशेष विमान से पालम वायुसेना इलाके में लाया गया, जहां पर तत्कालीन गृह मंत्री और वर्तमान में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह समेत कई बड़े मंत्री मौजूद थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पार्थिव शरीर की परिक्रमा करते हुए शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की थी।

https://www.youtube.com/channel/UCbFYf2Z-sDxKXYZQgjDtWQQ

पुलवामा (pulwama) आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान से बदला लेने का प्लान बनाने की जिम्मेदारी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एनएसए अजित डोभाल को दी थी। उनके अलावा, तत्कालीन वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ ने भी एयरस्ट्राइक में अहम भूमिका निभाई थी।


Spread Your News
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.