किसानों के ‘रक्षक’ बने वैज्ञानिक!, सबसे बड़ा प्लान तैयार!

Spread Your News

NEWSAGENDA24, HISAR DESK

हरियाणा के वैज्ञानिकों ने ठान लिया है कि अब नकली दूध की जितनी भी फैक्ट्री देश में चल रही है…उन्हें बंद करने का काम किया जाएगा। आप भी सोच रहे होंगे कि कैसे ये वैज्ञानिक इस काम को अंजाम देंगे…तो इसका जवाब ये है कि अब हिसार की लाला लाजपत राय युनिवर्सिटी ऑफ वेटरनरी एंड एनिमल साइंसेस ने इस पर काम करना शुरु कर दिया है और जल्द ही आपके सामने असली दूध की नदियां  बहेंगी…क्योंकि यहां के वैज्ञानिकों ने देसी नस्ल की गायों की नस्ल सुधारने की दिशा में काम करना शुरु कर दिया है।

इसके लिए कृत्रिम गर्भाधान और आईवीएफ तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा.. जिससे देसी गायों की दूध देने की क्षमता बढ़ जायेगी। इस बारे में जानकारी देते हुए लुवास के वीसी डॉक्टर विनोद कुमार ने बताया कि इस योजना से हरियाणा में देसी गायों का दूध बढ़ जायेगा। साथ ही सड़कों पर बेसहारा पशुओं की समस्या से भी भविष्य में छुटकारा मिलेगा क्योंकि नई तकनीक से 80 फीसदी तक बछिया ही पैदा होती हैं।

वहीं इस प्रोजेक्ट के डायरेक्टर डॉक्टर प्रवीन गोयल ने बताया कि ये प्रोजेक्ट अब प्रेक्टिकल रूप से शुरू हो चुका है। इस तकनीक से वो 5 गायों के बछड़े पैदा कर चुके हैं और कई गाय अभी गर्भवती भी हैं। ये प्रोजेक्ट केन्द्र सरकार की तरफ से दिया गया है और पूरे देश में केवल 5 जगहों पर ही कामयाब रूप से प्रोजेक्ट शुरू हो पाया है।

नम्रता मल्ला ने किया सैक्सी बेली डांस हुआ वायरल, फैंस हुए मदहोश

दरअसल यूनिवर्सिटी का लक्ष्य देश में कम दूध देने वाली नस्लों को धीरे-धीरे कम करके अधिक दूध देने वाली गायों की नस्लों को बढ़ाना है। इसके लिए लैब में अधिक दूध देने वाली नस्ल की गायों के एग से एम्ब्रियो तैयार करके उसे गोशाला, किसानों, पशुपालकों या फिर बेसहारा गायों के गर्भ में प्रत्यारोपित का कार्यक्रम बनाया गया है। सबसे बड़ी बात है कि अब 80 फीसदी बछिया पैदा होंगी तो वो सड़कों पर अवारा भी नहीं घूमती दिखेंगी। जिससे किसानों की फसलों को नुकसान तो कम होगा ही साथ में दूध ज्यादा होगा तो नकली दूध की फैक्ट्रियां भी देस से धीरे-धीरे खत्म होती जाएगी।


Spread Your News
Advertisements

One thought on “किसानों के ‘रक्षक’ बने वैज्ञानिक!, सबसे बड़ा प्लान तैयार!

Leave a Reply

Your email address will not be published.